Monday, 25 July 2022

शरीफा खाने फायदे

By:   Last Updated:

             custard apple cultivation    शरीफा के पौधे की  किसी   









  
           भी प्रकार  की भूमि पर की जा सकता है,  हलाकि  अच्छी  जल 
          निकास वाली दोमट मिटटी   इसकी  बढ़वार ओर पैदावार बाद  सकती 

        कई  बीमारिया के खिलाफ फायदेमंद 

         किसी भी तरह , मिटटी पर हो  सकती है शरीफा  की खेती  
 
       shareefa   ki kheti   भारतीय किसान अब पहले से जायदा जागरूक हो गया है ,उन्हे  समझा आने लग है 
      की  की फसलो की  खेती कर वे बढ़िया मुनफा हासिल   है , किसान के बीचा शरीफा की  खेती काफी लोकप्रिय  है, देश के कई हिसि के किसान इसकी खेती कर बढ़िया  पेश काम रहे है।                                                            
*    

  शरीफा एक  औषधीय  पौधा  है।  हार्ट संबंधी बीमारियों  में डॉक्टर  

    इसकी पतियों को खाने की सलाह देते है. दस्त जैसी  बीमारियों में  इसका सेवन फायदेमं है. बता दे की इसके  पौधे ज्यादा  देखभाल की जरूरत नहीं पड़ती है, औषधीय गुना होने की वजह से    इसके पौधे को जानवर खाने नहीं पसंद करते। इसके अलावा इसपर हानिकारक कीड़े एवं बीमारिया भी लगते है. वही इसकी बीजो से तेल और साबुन का भी काम किया जाता है.                                                                         

     कही भी की जा सकती है इसकी खेती 
             शरीफा के पौधे की खेती किस भी प्रकार की भूमि पर की जा सकती है. हलाकि अच्छी जल निकास वाली दोमट मिटी इसकी बढ़वार और पैदावार बढ़ सकती है. कमजोर और पतृलि भूमि पर भी अच्छे तरिके से इसकी खेती कर सकते है. भूमि का पि. एच   मन ५.५ से ६.५ के बीच  अच्छा माना  जाता है                                                               कब के खेती                                                                                                                                      शरीफा की खेती के लिए  मानसून यानि जुलाई और अगस्त का महीने सबसे बेहतर मन जाता है बता दे शरीफा का बीए जमने में कपि समय लगता है.  इसलिर इसकी बुवाई से पहले ३-४ दिनों तक  पानी में बीज कर रखा दे.  ऐसा करे से ये जल्दी के अंकुरण हो जाता  है. यदि  इस दौरान बारिश न हो रही हो  तो खेती की तीन चार दिन सिचाई काने के बाद ही इसकी बुवाई करे                                                                                                              
               कितना है मुनाफा      
शरीफा के पौधे खेत में लगाने के दो से तीन साल पल बाद देना सुरु कर देते है. इसके  फलो की तुड़ाई पूण्र  रूप से पके होने और देना पके होने और कठोर अवस्था में ही करे. इसके एक विकसित पौधे से १०० से जयदा पल प्रप्ता  होने लगते है. बाजार में ये फल ४० से १०० रूपये प्रति किलो के वह से मार्किट में सेल किया जाता 

No comments:
Write comment