Moti Kaise Banate Hai

Moti Kaise Banate Hai मोती कैसे बनते हैं ?

प्राचीनकाल से ही मोतियों ने अपनी चमक और सौन्दर्य से लोगों को मोहित किया है । सच्चे मोती बहुत कीमती होते हैं , क्योंकि वे कम मिलते हैं ।
      मोती (Moti) बनने की क्रिया बहुत दिलचस्प है । समुद्र में एक छोटा सा जीव सोपी ( Oyster ) होता है । इसका ऊपरी खोल कठोर होता है , परन्तु इसके अन्दर रहने वाले जीव का शरीर बहुत कोमल होता है । जब सीप केबाहरी खोल के अन्दर बालू का कोई कण चला जाता है , तब वह सीप अन्दर रहने वाले जीव के कोमल शरीर से रगड़ता है । इससे उस जीव को तकलीफ होती है ।

इस तकलीफ को दूर करने के लिए वह जीव उस कण पर मोती जैसी चमक वाले चिकने पदार्थ की परत पर परत जमाता जाता है । यह मोती की आभा वाली परतें कैल्सियम कार्बोनेट की होती हैं । इन्हीं परतों के फलस्वरूप खोल के अन्दर मोती का निर्माण होता है । इस प्रकार बना मोती गोल , चमकदार और सफेद होता है । यही सच्चा मोती होता है । यह जरूरी नहीं कि मोती केवल सफेद ही हो । उनका रंग पीला , काला , सफेद , गुलाबी , नीलापन लिए पीला , हरा और बैंगनी भी हो सकता है ।
       मोती (Moti) की खोज की कहानी बड़ी रोचक है । लगभग चार हजार साल पहले समुद्र के किनारे एक भूखे चीनी ने खाने के लिए कुछ सीपियों को खोलना शुरू किया। इनमें से एक सीपी के अन्दर उसे एक छोटी चमकदार गोली मिली । इसी चमकदार छोटी गोली को मोती के नाम से पुकारा जाने लगा ।
      मनुष्य ने अब कृत्रिम मोती (Moti) बनाने की तकनीकों को विकसित कर लिया है । इन तकनीकों का प्रयोग कर , बालू के कण सीपी के खोल में प्रवेश करा दिए जाते हैं और उन्हें फिर से पानी में डाल दिया जाता है । कुछ साल बाद सीपी से मोती (Moti) निकाल लिया जाता है । इन मोतियों को कृत्रिम या कल्चर्ड ( Cultured ) मोती कहते हैं । जापान ने सुन्दर कृत्रिम मोतियों को बनाने की तकनीक में दक्षता प्राप्त कर ली है ।

प्राकृतिक या सच्चे मोतियों का मूल्य अधिक होता है । इसलिए अधिकतर लोग कल्चर्ड मोती खरीदते हैं । 17 मई 1934 को फिलीपीन्स में एक ऐसा मोती पाया गया , जिसका व्यास 13 सेन्टीमीटर है । इस मोती का भार लगभग 6.37 किलोग्राम है । इसे लोजी का मोती ( Pearl of Laozi ) कहते हैं । यह विश्व का सबसे बड़ा मोती है । Ise Bhi Padhe – सिलिकॉन हमारे लिए कैसे उपयोगी है |

1 thought on “Moti Kaise Banate Hai मोती कैसे बनते हैं ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *