Petrol Kaise Prapt Hota Hai

Petrol Kaise Prapt Hota Hai पेट्रोल कैसे प्राप्त होता है ?

 पेट्रोल (Petrol) आज मानवजाति की सबसे अधिक सेवा कर रहा है । इससे रेलें , बस , कार , स्कूटर , ट्रैक्टर , हवाई जहाज , पानी के जहाज आदि चलते हैं और उद्योगों में अनेक प्रकार की मशीनें चलाई जाती हैं । इस प्रकार मानवजीवन के लिए पेट्रोल (Petrol) बहुत ही आवश्यक वस्तु बना हुआ है ।

क्या तुम जानते हो कि पेट्रोल हमें कैसे प्राप्त होता है ? पेट्रोल हमें एक काले और गाढ़े तरल पदार्थ से मिलता है , जिसे पेट्रोलियम कहते हैं । पेट्रोलियम लैटिन भाषा का शब्द है , जिसका अर्थ है- चट्टानों से निकलने वाला तेल । पेट्रोलियम जमीन के अंदर से निकाला जाता है । क्या तुम जानते हो कि यह तेल जमीन के अंदर कैसे बनता है ? यह एक बड़ा दिलचस्प विषय है ।

हज़ारों – लाखों साल पहले पृथ्वी की उथल – पुथल के कारण बड़ी संख्या में पौधे और जानवर जमीन के नीचे दब गए होंगे। अत्यंत दबाव और गर्मी के कारण यही मृत पौधे और जानवर पेट्रोलियम में बदल गए । वैज्ञानिकों ने समुद्र के अंदर पेट्रोलियम के ऐसे अनेक भंडारों का पता लगाया और समुद्र की चट्टानों से इस काले तरल पदार्थ को निकालना शुरू कर दिया ।

जमीन से पेट्रोलियम निकालने के लिए कुएं बना लिए जाते हैं , जिनमें से कच्चा तेल निकाला जाता है। इस तेल में पेट्रोल , नैपथा , कैरोसिन, डीजल, मोम, पिच आदि पदार्थ होते हैं । कच्चे तेल को साफ करने के कारखानों को पेट्रोल (Petrol) रिफाइनरीज ( Petrol Refineries ) कहते हैं ।

कच्चे तेल को बडे – बड़े बेलनाकार बर्तनों में डालकर गर्म किया जाता है । अलग – अलग तापमान पर कच्चे तेल में उपस्थित चीजें अलग – अलग पाइपों द्वारा निकाल ली जाती हैं । इस प्रकार पेट्रोलियम में से कुछ हिस्सा पेट्रोल के रूप में प्राप्त हो जाता है ।

 वैज्ञानिकों ने पेट्रोल बनाने के कुछ कृत्रिम तरीके भी विकसित कर लिए हैं । इन तरीकों से बनाया गया पेटोल महंगा पड़ता है । पेट्रोल संसार के बहुत से देशों में मिलता है । पेट्रोल का सबसे अधिक उत्पादन अरब देशों , अमेरिका और रूस में होता है । भारत में पेट्रोलियम का उत्पादन मुख्य रूप से असम और मुंबई में होता है ।

Ise Bhi Padhe – बूमरैंग क्या है ?

1 thought on “Petrol Kaise Prapt Hota Hai पेट्रोल कैसे प्राप्त होता है ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *